खामोशी शायरी Image | Khamoshi Shayari in Hindi – Mad Best Shayari


जब कोई ख्याल दिल से टकराता है,
दिल न चाह कर भी खामोश रह जाता है,
कोई सब कुछ कह कर प्यार जताता है,
कोई कुछ न कहकर भी सब बोल जाता है !!


अगर एहसास बयां हो जाते लफ्जों से,
तो फिर कौन करता तारीफ खामोशियों की !!

Khamoshi ki Zuban Shayari

Khamoshi Sad Shayari in Hindi
खामोशी शायरी

वो दर्द ही क्या जो आँखों से बह जाये,
वो खुशी ही क्या जो होठों पर रह जाए,
कभी तो समझो मेरी खामोशी को,
वो बात ही क्या जो लफ्ज आसानी से कह जाए !!


जज्बात कहते हैं, खामोशी से बसर हो जाएँ,
दर्द की ज़िद हैं कि दुनिया को खबर हो जाएँ !!


हर इल्जाम का हकदार वो हमे बना जाते है,
हर खता कि सजा वो हमे सुना जाते है,
हम हर बार खामोश रह जाते है,
क्योकि वो अपना होने का हक जता जाते है !!


Hindi Khamoshi Shayari

चुभाती तो है जिंदगी भी,
जब साथी नहीं मिलाता कोई,
खामोशियों को मिटाने वाला नहीं कोई,
मगर खामोश रहने का आज युग में कोई फ़ायदा नहीं,
क्यूकी खामोशी का फ़यदा उठाता है हर कोई !!


तड़प रहे है हम तुमसे एक अल्फाज के लिए,
तोड़ दो खामोशी हमें जिन्दा रखने के लिए !!


खामोशियां सबर का इम्तेहान बन गई,
मजबूरियां प्यार में इल्ज़ाम बन गई,
वो आए और आकर चले गए,
खुशिया चंद लम्हो की महमान बन गई !!

Tumhari Khamoshi Shayari in Hindi

Khamoshi ki Zuban Shayari
Khamoshi Shayari Image Download

ये तुफान यूँ ही नहीं आया है,
इससे पहले इसकी दस्तक भी आई थी,
ये मंजर जो दिख रहा है तेज आंधियों का,
इससे पहले यहाँ एक ख़ामोशी भी छाई थी !!


इश्क की राहों में जिस दिल ने शोर मचा रखा था,
बेवफाई की गलियों से आज वो खामोश निकला !!


बाते तो हम रोज़ करते है,
चलो आज खामोशियां आज़माते है,
नज़रो से कस्मे वादे निभाते है
इशारो से आज दिल लुभाते है,
चलो न कुछ अलग करते है,
आज खामोशियां आजमाते है !!


कभी खामोश बैठोगे कभी कुछ गुनगुनाओगे,
मैं उतना याद आऊंगा मुझे जितना भुलाओगे !!


ख़ामोशी इकरार से कम नहीं होती,
सादगी भी सिंगार से कम नहीं होती,
ये तो अपना अपना नज़रिया है मेरे दोस्त,
वर्ना दोस्ती भी प्यार से कम नहीं होती !!


खामोशी का आलम कुछ
ऐसी कयामत कर रहा है,
धड़कन का दर्द मत पूछो
हर ज़रे में बेबस हो रहा है !!

Khamoshi achi hai Shayari

Tumhari Khamoshi Shayari in Hindi
Khamoshi Shayari Image

मुझे खामोश राहों में तेरा साथ चाहिए,
तन्हा है मेरा हाथ तेरा हाथ चाहिए,
जूनून-ए-इश्क को तेरी ही सौगात चाहिए,
मुझे जीने के लिए तेरा ही प्यार चाहिए !!


किसी के लड़ने चिल्लाने से जायदा,
किसी की ख़ामोशी मार डालती है !!


खामोशी तेरी तुझको कर रही है तबाह,
तेरे दिल मे उठती सुनामी तुझे कर रही है आगाह,
इश्क़-ए-मोहब्बत न सही, नफरत भी न कर खुद से,
तुझ पर है तेरे अपनों की उम्मीदों भरी निगाह !!

5 Comments

Leave a Reply